कला पर कभी किसी का अधिकार नहीं रह पाया है.
हम अगर सोचते हैं कि कला अगर एक खास तरह के लोगों के लिए है, तो यह हमारी गलत सोच है. भारतीय सिनेमा पर वैसे तो आज भी पुरूष फिल्म डायरेक्टर्स का दबदबा चल रहा है, लेकिन ऐसी कुछ महिलायें भी देश में पैदा हुई हैं, जिन्होनें अपनी कला से सभी को हैरान कर दिया.

इन महिला फिल्म निर्देशकों ने अपनी फिल्मों से ना सिर्फ भारत देश में नाम कमाया अपितु देश के बाहर भी इनकी फिल्मों को खूब सराहा गया है.आइये पढ़ते हैं ऐसी ही कुछ महिलाओं की कहानियों को, इनके संघर्ष को, और सलाम करते हैं इनके जज्बे को…

1. फातिमा बेगम

फातिमा जी भारत की पहली महिला फिल्म निर्देशक हैं. जिस दौर में इन्होनें फिल्म बनाई, तब महिलाओं पर हमारा समाज काफी प्रतिबंध लगाकर रखता था. वर्ष 1926 मे प्रर्दशित फिल्म ‘बुलबुले परिस्तान’ इनकी पहली फिल्म थी, जिसका निर्देशन महिला ने किया था. बेगम जी इस फिल्म की निर्देशक थीं. फिल्म में जुबैदा, सुल्ताना और पुतली ने मुख्य भूमिका निभाई थीं. उस वक़्त की यह एक बड़े बजट की फिल्म थी. फिल्म में काफी अलग तकनीकों का भी प्रयोग किया गया था. इनका जन्म एक मुस्लिम परिवार में हुआ था. जीवन में वह काफी धार्मिक विचारों की महिला रहीं. और 90 साल की उम्र में इनका देहांत हुआ. अपने दौर की फातिमा बेगम जी सुपरस्टार महिला कलाकार रहीं. आलम आरा फिल्म में इनकी अदाकारी को भी खूब सराहा गया था.

2. दीपा मेहता

दीपा मेहता जी पर हमारा बॉलीवुड हमेशा गर्व करता रहेगा. दीपा जी ऑस्कर नॉमिनेटेड फिल्म डायरेक्टर हैं. भारतीय परिवेश के सामाजिक मुद्दों और महिलाओं पर केंद्रित इनकी फ़िल्में हमेशा ख़बरों में रही हैं. जिन लोगों को गंभीर और बेहद संवेदनशील फिल्मों को देखने का क्रेज रहा है, ऐसे लोगों की मांग दीपा जी जरुर पूरी करती रही हैं. 1996 में बनी ‘फायर’, 1998 की ‘अर्थ’ और ‘वाटर’ 2005. इन तीनों ही फिल्मों ने ऑस्कर अवार्ड में प्रवेश किया था. इनका जन्म पंजाब में हुआ था. बचपन इनका दिल्ली में बीता. फायर फिल्म पर भारत में रोक भी लगी दी गयी थी, क्योकि फिल्म में दो महिलाओं के बीच बनते शारीरिक रिश्तों को दिखाया गया था. आज दीपा मेहता जी इंडो-कैनेडियन फिल्म डायरेक्टर के नाम से ज्यादा मशहूर हैं.

3. रीमा कागती

रीमा कागती जी वर्तमान में सबसे ज्यादा चर्चाओं में रहने वाली महिला फिल्म निर्देशक हैं. इनकी पिछली फिल्म ‘तलाश’ को भारतीय फ़िल्मी जगत में काफी सराहा गया था. आमिर खान और करीना कपूर ने अपने अभिनय से फिल्म में चार-चाँद लगा दिए थे. इससे पहले रीमा कागती ने अपना फ़िल्मी सफ़र ‘हनी मून ट्रेवल्स’ से सन 2007 में शुरू किया था. इनकी फिल्म तलाश एक कामयाब फिल्म रही, जो कमाई में भी अच्छा करके गयी थी. रीमा जी ने डायरेक्शन से पहले फरहान अख्तर और आशुतोष गोवारीकर जी की टीम में काफी काम सीखा था.

4. जोया अख्तर

अपने भाई, फरहान अख्तर की तरह ही, सिनेमा पर इनकी काफी अच्छी पकड़ रही है. ‘लक बाई चांस’ और ‘जिंदगी मिलेगी ना दोबारा’, इनकी हिट फ़िल्में रही हैं. जोया अख्तर ने बतौर एक्टिंग फिल्म इंडस्ट्री में कदम रखा था. साल 1996 में मीरा नायर की फिल्म ‘कामसूत्र: टेल ऑफ लव’ में इनको एक्टिंग करते देखा गया था. आज बॉलीवुड में जोया का नाम एक सफल निर्देशक के रूप में जाना जाता है। जोया की स्कूली पढ़ाई मानेकजी कूपर स्कूल से हुई और जेवियर कॉलेज से उन्होंने बीए की डिग्री हासिल की। इन्होंने फिल्म प्रोडक्शन न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी से किया है.

5. फराह खान

फराह खान बॉलीवुड की काफी जानी मानी बॉलीवुड निर्देशिका हैं. फराह ने अब तक ‘मैं हूँ ना’ और ‘ओम शांति ओम’ जैसी बेहतरीन फिल्मों का निर्देशन किया है. टेलीविज़न की दुनिया में भी इन्होनें अच्छा नाम कमा रखा है. वैसे डायरेक्शन से ज्यादा इनको टेलीविज़न की दुनिया में नाम मिला है. इसके साथ ही वह फिल्मों में एक सफल कोरियोग्राफर भी हैं.